पुष्पम पहुंची मनेर में लड्डू बनाने वाले कारीगरों के बीच

Spread the love

कोरोना के प्रकोप के बावजूद प्लूरल्स की राजनायिका व बिहार के मुख्यमंत्री पद की दावेदार पुष्पम प्रिया चौधरी मैदान में निकल चुकी है । कारण यह कि आपदा से ग्रस्त जनता की जमीन पर सुध लेने वाला कोई नही है। पुष्पम गांवों गांवों तक फिर से पहुँचने लगी है और लोगों से जुड़ रही है । बदलते बिहार की अपील के साथ सीवान से लेकर बराबर की पहाड़ियों में भी पुष्पम देखी जा चुकी है ।

 

इस दौरान मनेर में दूकानदारों की खराब आर्थिक व्यवस्था पर पुष्पम ठहर गई । उनकी समस्याएँ समझी और फिर उन्होने कुछ बातें ट्वीट की । उस ट्वीट के माध्यम से उन्होने के जनता की आँखें खोलनी चाही हैं । उन्होने ट्वीट में लिखा कि लॉकडाउन ने रिटेल बिज़नेस की कमर तोड़कर रख दी है। मनेर के विश्वविख्यात लड्डू और इसको बनाने वाले मज़दूर तक भयंकर नुक़सान से प्रभावित हुए। लेकिन सरकार की पॉलिसीमेकिंग में ईकोनॉमिक पैकेज का नामोनिशान तक नहीं है। आश्चर्य की बात है कि बिना संवैधानिक आपातकाल वाले आपातकाल में “व्यापार करने का मौलिक अधिकार” बिना मुआवज़े के बस एक इग्ज़ेक्युटिव ऑर्डर से सस्पेंड हो जाता है और कोई लीगल डिस्कॉर्स तक नहीं है! विश्व के देशों ने अपने व्यवसायियों के नुक़सान की भरपाई की, दूसरे राज्यों में कुछ चर्चा भी हुई, लेकिन बिहार में समाज की नुक़्ताचीनी कीजिए, बस आर्थिक विमर्श न करें! हर एक ज़िंदगी और हर एक उद्यम का सम्मान, यही नया बिहार होगा, आर्थिक न कि राजनीतिक !

आपको बता दें कि दूर राज्यों से आए मजदूर खराब आर्थिक व्यवस्था के बाद बिहार में बाढ़ का दंश झेल रहें है । ऐसे में सरकार की तरफ से योजनाए तो खूब सुनाई जा रही है लेकिन कोई समाधान नही दिया जा रहा , कोई सुविधा नहीं दी जा रही। बिहार में चुनाव के पूर्व इस गंभीर स्थिति का खामियाजा निश्चित रूप से राजनैतिक दलों को भुगतना पड़ सकता है ।

 

Read more-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


hi