किसान क्रांति पदयात्रा: दिल्ली-यूपी बॉर्डर सील, पूर्वी दिल्ली में धारा 144 लागू

0
किसान क्रांति पदयात्रा

कर्जमाफी और बिजली बिल के दाम करने की मांग को लेकर शुरू हुई किसान क्रांति पदयात्रा 1 अक्टूबर को गाज़ियाबाद पहुंची। किसानों की इस पदयात्रा को दिल्ली में दाखिल होने की इजाजत नहीं दी गई है। इसके बावजूद किसान दिल्ली में घुसने की कोशिश कर रहे है। जिसके चलते दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर भारी सुरक्षाबल तैनात किया गया है। पूर्वी दिल्ली में धारा 144 लागू कर दी गई है।

गाज़ियाबाद से दिल्ली की ओर जाने के दौरान उन्हें यूपी-दिल्ली बॉर्डर पर रोक लिया गया। इस पर भारतीय किसान यूनियन के अध्‍यक्ष नरेश टिकैत ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि हमें यहा क्यो रोका गया है। उन्होंंने कहा कि हम सभी किसान अपनी रैली को शांतिपूर्वक और अनुशासित तरीके से कर रहे हैं। अगर हम अपनी ही चुनी हुई सरकार से अपनी समस्‍याएं नहीं बताएंगे तो हम किसे बताएंगे। क्‍या हम इसके लिए पाकिस्‍तान और बांग्‍लादेश जाएं?

गांधी जयंती के मौके पर किसानों की योजना राजघाट से संसद तक मार्च करने की है। लेकिन दिल्ली पुलिस ने उन्हें इसकी इजाज़त नहीं दी है। गाजियाबाद से दिल्ली में दाखिल होने वाले रास्ते को भी डाइवर्ट किया गया है। साथ ही साथ दिल्ली से कौशाम्बी और वैशाली की तरफ जाने वाले रास्ते को भी डाइवर्ट किया गया।

किसान क्रांति पदयात्रा: योगी आदित्यनाथ से बातचीत रही विफल

देर रात प्रशासन और पुलिस के अधिकारियों के साथ किसानों के एक प्रतिनिधिमंडल ने हिंडन एयर फोर्स स्टेशन पर दिल्ली के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। 2 घंटे चली यह बातचीत विफल रही।

आपको बता दे कि किसान क्रांति पदयात्रा भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में 23 सितंबर को हरिद्वार से शुरू हुई थी। इनकी मांग है कि उनके कर्ज़ को पूरी तरह माफ किया जाए औऱ बिजली के बिल के दाम को कम किया जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here