#FitnessChallenge में हस्तियों को तो जोड़ लिया, क्या इनके लिए भी कुछ करेंगे मंत्री जी?

0
#FitnessChallenge

फिटनेस चैलेंज इन दिनों खूब चल रहा है। सोशल मीडिया पर तो फिटनेस चैलेंज ही है। इसके लिए कुछ नहीं करना है, बस आपको ट्वीटर पर एक एकाउंट खोलना है, ठीक उसी तरह जिस तरह आपने जनधन खाता खोला था। बस फिर क्या आप भी इस चैलेंज का हिस्सा बन जाइये….क्योंकि ये तो इंडिया के लिए ही है। सोशल मीडिया पर जो फिटनेस चैलेंज शोर मचा रहा है, वो कुछ सवाल भी खड़ा कर रहा है।

केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन राठौर यूं बैठे बैठे सोच रहे होंगे कि क्या किया जाए? फट से उनके मन में विचार आया कि क्यों न तीन चार पुशअप मार लिये जाए और फिर ट्विटर को काम पर लगाया जाए। उन्होंने किया भी ऐसा ही पुशअप मारे, वीडियो रिकॉर्ड किया और कर दिया शेयर, और ट्वीटर पर तलहका मचा दिया।

बात शेयर तक ही नहीं थी, उन्होंने इसके लिए कोहली, ऋतिक इन सबको चैलेंज दिया। अब इस चैंलेज को पूरा करने की होड़ लग गई। हर कोई चैलेंज पूरा कर रहा है। लेकिन चैलेंज जो पूरा कर रहे हैं वो कौन लोग है? ये देखने वाली बात है? अभी तक बहुत सारे लोगों फिटनेस चैलेंज में हिस्सा लिया तो कुछ लोग ले रहे हैं। मतलब साफ है कि कुछ दिनों तक ये चलता ही रहेगा।

Loading…

#FitnessChallenge तो बहाना, करना है बस टाइम पास

यहां गौर करने वाली बात है कि जो लोग इसमें हिस्सा ले रहे हैं, वो यां तो खिलाड़ी है या फिर कलाकार या देश के दूसरे कलाकार यानि राजनेता। अब खिलाड़ी फिट नहीं रहेगा तो उसका काम कैसे चलेगा, मतलब उसका फिट होना बहुत जरूरी है। वहीं अगर अभिनेता या अभिनेत्रियों की बात करे तो खुद को फिट नहीं रखेंगे तो काम कौन देगा? मतलब ये वो लोग है, जो फिट ही रहते हैं।

यह भी पढ़े : पीएम मोदी ने स्वीकारा विराट की चुनौती, बोलें ‘जल्द करूंगा’

इनका तो समझ में आया, लेकिन राजनेता का नहीं। रूकिये हम बताते हैं। दरअसल, कर्नाटक का ड्रामा खत्म हो गया। एमपी, छत्तीसगढ़ और राजस्थान चुनाव होने में अभी बहुत समय है। तो क्या करें अब? खाली बैंठे और फटाफट फिटनेस में भाग ले लिया। अब चारो तरफ फिटनेस फिटनेस का हल्ला हो रहा है। अरे भईया ये फिटनेस चैलेंज बस इन्ही लोगोंं के लिए है।

ये किसानोंं या कर्मचारियों के लिए नहीं है साहेब

ये सिर्फ ट्विटर वासियों के लिए ही है, वो भी सिर्फ एक्टर, खिलाड़ी और नेता। उस किसान को फिटनेस की क्या जरूरत है, क्योंकि उसके पास न तो इतना खाना है कि खाने के बाद उसका पेट बढ़ जाए। वो तो मंडी में अपनी फसल बेचने के लिए चक्कर काट रहा है। न ये आम महिलाओं के लिए है, जो दिन भर ये सोचती है कि शाम को क्या बनाया जाए, क्योंकि उनका वजन तो यही सोचते सोचते कम हो गया।

ये फिटनेस चैलेंज युवाओं के लिए भी नहीं है, क्योंकि वो रोजगार की तलाश में अभी दर दर भटक रहा है। भटकने से फुर्सत मिले तो ही फिटनेस में हिस्सा ले सके। मतलब साफ है कि ये न आपके लिए है, न किसी और के लिए, बस उनके लिए ही है, जिनकी चर्चा हमने ऊपर की, क्योंकि हम, आप तो अभी अपनी समस्याओं से जूझ रहे हैं।

अब जनधन खाते की तरह ट्विटर खाता भी खुलवाया जाए

फिटनेस में इन लोगों को जोड़ने के लिए शायद मंत्री जी के पास कोई तरीका न हो। तो क्या हुआ…जो जल्दी से इन लोगों को एक एक स्मार्टफोन देंगे और फिर कहेंगे ट्विटर पर अपना खाता बनाओ। फिर इन लोगों को फिटनेस चैलेंज में भाग लेने के लिए कहा जाएगा।

मंत्री जी फिटनेस चैलेंज की जरूरत इन हस्तियों को नहीं, बल्कि इन लोगों को है, जिन्हें कभी दो वक्त की रोटी नसीब नहीं होती। बहस लंबी हो सकती है, इसलिए बस इतना ही कहना चाहेंगे….’जब मंत्री जी हो मौज लेने के मूड में, तो फिटनेस चैलेंज चलाएंगे’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here